Archive for कार्यकम रपट

अमृत घट छलकाते आये हैं बादल

अमृत- घट- छलकाते- आये- हैं- बादल

 [वर्तिका- की- काव्य-गोष्ठी- संपन्न]

 

विगत दिवस वर्तिका की काव्य गोष्ठी में अध्यक्षीय

उद्बोधन के साथ अपने गीत ‘अवनि से अम्बर तक छाये हैं

बादल, अमृत घट छलकाते आये हैं बादल’ को गुनगुनाकर

आचार्य भगवत दुबे ने गोष्ठी में चार चाँद  लगा दिए. वहीं

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में पधारे श्री मोहन शशि

ने उत्तराखंड त्रासदी पर ‘अहंकार भरे पक्के निर्माण –

सह न सके लहरों के बाण’ जैसी पंक्तियों से श्रोताओं की

आँखें नम कर दीं. गोष्ठी के  प्रारम्भ में वर्तिका के समन्वक

श्री एम. एल. बहोरिया अनीस ने कार्यक्रमों को शास्वत

बनाये रखने का संकल्प दोहराते हुए स्व. साज़ को याद

किया.

 इस अवसर पर सुनीता मिश्रा सुनीत, अरविन्द यादव,

शेख निजामी, एवं गोपाल कोरी को उनके जन्म दिवस के

उपलक्ष्य में वर्तिका के इंजी. विवेक रंजन श्रीवास्तव,

विजय नेमा अनुज, सलमा जमाल सहित मंचासीन

अतिथियों द्वारा अभिनन्दन पत्र प्रदान कर सम्मानित

किया गया.

 काव्य गोष्ठी में राजेन्द्र रतन के – ऋतु के रूप सुहाने,
संजीव वर्मा सलिल के – बन बन कर मिटता है मानव,
मिट मिट कर हर बार बनेगा, मैराज जबलपुरी के –
शेरो-सुखन-सऊर का दफ्तर चला गया, श्रीमती शशिकला
सेन के गीत-  भूल गए सब अपने संस्कार, सोहन परौहा
सलिल की कविता- मैं उसकी भरपाई जनम जनम तक न
कर पाऊँगा, दीपक तिवारी की – फुटपाथ पर चलने वाले
जमींदार हो गए जैसी अभिव्यक्ति सुनकर लोग वाह वाह
कह उठे.  कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्री शेख निजामी ने
जहाँ अपनी व्यंगात्मक शैली में सुनाया कि ‘कहते हुए वो
लोकसभा से चल दिए, सारे जहाँ का दर्द हमारे जिगर में है’
वहीं संस्था सचिव विजय तिवारी किसलय ने अपनी

रचना ‘बिन- सजना- के- कुछ- न- भाये’- सुनाई.

आज की गोष्ठी में मनोज शुक्ल मनोज, देवेन्द्र तिवारी रत्नेश,

इंद्र बहादुर श्रीवास्तव, प्रभा पण्डे पुरनम, अनूदित साज़,

प्रमोद तिवारी मुनि, प्रभा विश्वकर्मा शील, नारायण नामदेव,

ममता जबलपुरी, गुंजन भारती, सुभाष जैन शलभ, बसंत

सिंह ठाकुर, मनोहर शर्मा माया की रचनाओं ने भी अपनी

प्रतिनिधि रचनाओं से श्रोताओं को बांधे रखा.

अंत मेंअशोक श्रीवास्तव सिफ़र द्वारा अतिथियों के कर कमलों
से मासिक काव्य पटल का अनावरण कराया गया एवं
सुशील श्रीवास्तव ने सभी की उपस्थिति के प्रति आभार
व्यक्त किया.
प्रस्तुति:-

डॉ- विजय-

स्व.श्री हीरालाल गुप्त स्मृति समारोह सम्पन्न

२४ दिसम्बर १९९७ से   जारी श्री हीरालाल गुप्त  स्मृति समारोह का आयोजन  हीरालाल गुप्त  स्मृति समिति तथा  सव्यसाची कला ग्रुप  के तत्वावधान में  ड्रीमलैण्ड फ़नपार्क जबलपुर में दिनांक २४ दिसम्बर २०१२ को आयोजित किया गया.  कार्यक्रम की अध्यक्षता  पूर्व उप महाधिवक्ता उच्च न्यायालय मध्यप्रदेश श्री आदर्श मुनि त्रिवेदी जी ने की जबकि  मुख्य अतिथि के रूप में  श्री कृष्ण कान्त चतुर्वेदी पूर्व निदेशक कालिदास अकादमी ,मध्य प्रदेश  थे.   “स्वर्गीय हीरा लाल गुप्त स्मृति पत्रकारिता सम्मान ” से इस वर्ष वरिष्ठ पत्रकार श्री चैतन्य भट्ट को सम्मानित किया गया. कार्यक्रम में बड़ी संख्या में साहित्यिक सांस्कृतिक संस्थाओं के प्रतिनिधि, साहित्यकार, पत्रकार उपस्थित थे. सव्यसाची स्वर्गीया श्रीमती प्रमिला बिल्लोरे स्मृति सम्मान से इस बार संस्कारधानी  के जाने माने उद्घोषकराष्ट्र स्तरीय सामाजिक पत्रिका “सनाढ्य संगम” के यशस्वी संपादक  श्री राजेश पाठक “प्रवीण” को नवाजा गयासंस्कारधानी की भावना के अनुरूप इस कार्यक्रम में हम स्वर्गीय रामेश्वर गुरु जी को भी स्मरण किया जाना इस कार्यक्रम की  विशेषता थी. श्री श्याम बिहारी चतुर्वेदी ने स्व. रामेश्वर गुरु जी व्यक्तित्व पर विचार व्यक्त किये.
           कार्यक्रम के आरम्भ में दिवंगत मां सव्यसाची प्रमिला देवी बिल्लोरे एवम स्वर्गीय हीरालाल गुप्त मधुकर जी के चित्रों पर पुष्पांजली अतिथियों एवम उपस्थित व्यक्तियों द्वारा किया .   

कार्यक्रम की शुरुआत वरिष्ट पत्रकार मोहनशशि की अभिव्यक्ति से हुई जिन्होने जबलपुर में स्व. हीरालल गुप्ता जी की समकालीन पत्रकारिता में पवित्रतासादगीव्यापक विचारशीलता को रेखांकित किया.     इस अवसर पर सृजन सम्मान से सम्मानित श्री अमरेंद्र नारायण पूर्व सेक्रेट्री जनरल एसिया पेसिफ़िक टेक्नोकम्यूनिटि ने कहा –“बरसों देसी-विदेशी भूमि पर सेवा देने के बाद मुझे जबलपुर में वापसी को जबलपुर ने जिस तरह स्वीकारा है उसे उससे स्पष्ट हो जाता है कि जबलपुर वास्तव में अपने संस्कारधानी नाम के अनुरूप संस्कारवान है और रहेगी भी  स्व. श्री हीरालाल गुप्त मधुकर स्मृति पत्रकारिता सम्मान से समादरित श्री चैतन्य भट्ट ने प्राप्त सम्मान को गरिमामय सम्मान निरूपित करते हुए कहा कि  अदभुत चरित्र के धनी थे स्व. गुप्त जी उनका सानिध्य मात्र से सादगी और सच्चरित्र होना स्वभाविक था.  अध्यक्षीय उदबोधन में श्री आदर्श मुनि त्रिवेदी ने कहा-संस्कारवान पीढ़ी्यां ही अपने पूर्वजों की स्मृतियां अक्षुण्य रखतीं हैं. जबलपुर की तासीर भी यही है. इस तरह के आयोजनों से उन  आदर्शों की प्राण-प्रतिष्ठा को कायम किया जा सकता जो सामाजिक समरसता को जीवित रखते हैं. मां सव्यसाची प्रमिला देवी बिल्लोरे स्मृति सम्मान से सम्मानित श्री राजेश पाठकप्रवीण ने कहा- मेरे जीवन का मार्मिक क्षण है जबकि मुझे मेरी मां का स्नेह मिल रहा है.  कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत श्री सतीष बिल्लोरेश्री अरविंद गुप्ता  डा. विजय तिवारी किसलयबसंत मिश्राराजीव गुप्ता,श्री राजकुमार अग्रवाल ने किया. कार्यक्रम का संचालन गिरीश बिल्लोरे ने तथा आभार अभिव्यक्ति श्री विजय तिवारी “किसलय” द्वारा की गई

कर्यक्रम में  “स्वर्गीय हीरा लाल गुप्त स्मृति पत्रकारिता सम्मान ” से वरिष्ठ पत्रकार श्री चैतन्य भट्ट को सम्मानित किये जाते समय  की  झलक देख्नने हेतु इस लिंक को क्लिक करें-vHw5MdolkJA

  • Calender

    October 2017
    M T W T F S S
    « Sep    
     1
    2345678
    9101112131415
    16171819202122
    23242526272829
    3031