Archive for दोहे

दोहा

हरियाली का दायरा, घटकर हुआ न्यून.

शहरों में सजने लगे, कृत्रिम लता-प्रसून ..

– विजय तिवारी “किसलय”

दोहे

किसलय जग में श्रेष्ठ है, मानवता का धर्म.                                                                          अहम त्यागकर जानिये, इसका व्यापक मर्म…. 

– विजय तिवारी ‘किसलय’

चन्द्र भाल स्तोत्र

chandrabhaal-stotra-150x150

  • Calender

    December 2017
    M T W T F S S
    « Sep    
     123
    45678910
    11121314151617
    18192021222324
    25262728293031